कम्प्यूटर क्या है computer kya hai

computer kya hai

कम्प्यूटर क्या है – What is Computer in Hindi ? ( computer kya hai )

Computer का नाम सुनते ही मन में  विचार आने लगते है . Computer को शब्दो मे बांधना थोडा सा difficult  होता हैं. ऐसा इसलिए है कि हर इंसान  अलग‌-अलग कार्यों के लिए कम्प्यूटर का Use करता है.

Computer के बारे में एक आम धारणा भी famous है कि Computer एक English शब्द है. Computer का hindi में means  Computer Meaning in Hindi गणना होता है. इसका मतलब Computer एक गणकयंत्र है. लेकिन, Computer को एक जोडने वाली machine कहना गलत होगा. क्योंकि Computer जोडने के अलावा सैकडों different  कार्य करता है.

अगर आप एक writer से पूछोगे कि computer kya hai ? तो वह शायद कहे की Computer  एक type machine हैं. इसी तरह हम एक game खेलने वाले child से पूछे तो वह शायद कहे कि Computer तो एक game machine  है. Computer  operator से पूछोगे तो वह इसे office का काम निपटाने वाली machine के संदर्भ में define करने की कोशिश करेगा.

हम कह सकते है कि Computer को किसी एक अर्थ में नही बांधा जा सकता है. Computer का mean  उसके use के आधार पर हर व्यक्ति के लिए अलग है.

Computer Full Form in Hindi

C – Commonly
O – Operating
M – Machine
P – Particularly
U – Used in
T – Technology
E – Education and
R – Research

Types of Computer

Computer  केमुख्यरूपसेतीनप्रकारहोतेहैं.

अनुप्रयोग(Application)

उद्देशय(Purpose)

आकार(Size)

Computer Introduction in Hindi – कम्प्यूटर का परिचय

computer kya hai ? Computer अपना work अकेला नही कर सकता है. Computer किसी कार्य को करने के लिए कई तरह के उपकरणों तथा Softwares  की सहायता लेता है. Computer केये

उपकरणों तथा Softwares  Hardare and Software के नाम से जाने जाते है.

computer kya hai ?

CPUCentral Prosesing Unit  कहा जाता है. इसमें MotherBoard, Prossesor, Hard Disc आदि Units  होतेहै जो Computer को Work करने लायक बनाते है.

Monitor:  एक Output  Unit है जो हमें दिए गए Instractions  के Result को दिखाता है. यह बिल्कुल T.V. के जैसा होता है. वर्तमान में Monitores की जगह LED ले ली है.

Keyboard: एक Input  Device  है जो हमें Computer को Instructions  देने के लिए होता है. इसकी Help से ही Computer Use होते है.

Mouse भी एक Input  Device है .जो Computer को Instructions देने के लिए होता है.

Speakers: Output Device है जो हमें Computer से Sound  को सुनने में Help करते है. इन्ही के द्वारा हमें Songs, Movies आदि में Sound सुनाई देती है.

Printer : Printer एक Output उपकरण है जो Computer द्वारा  सूचनाओं को Paper  पर Print  करने के लिए होता है.

Characteristics of Computer in Hindi – कम्प्यूटर की विशेषताएं

a).Speed

  • Computer  बहुत तेज Speed से Work करता हैं .
  • यह लाखों Instructions को only  एक Second में ही संसाधित कर सकता हैं.
  • इसकी Data  संसाधित करने की Speed को Microsecond(10–6),     Nenosecond(10-9) तथा picosecond(10-12) में मापा जाता हैं.

b). Accuracy

  • Computer GIGO (Garbage in Garbage Out) Rull पर work करता हैं.
  • इसके results  की शुद्धता मानव results की तुलना में बहुत ज्यादा होती हैं.

c). Diligence

  • Computer एक थकान मुक्त और मेहनती Machine हैं.
  • यह बिना रुके, थके और बोरियत माने बगैर अपना कार्य शुद्धता के साथ कर सकता हैं.

d).  Automation

यह एक Automatic machine भी है.

Automation  इसकी बहुत बडी खूबी हैं.

e). Communication

एक Computer अन्य Electronic Devices से भी बात-चीत कर सकता हैं.

यह Networks के जरीए अपना Data  काआदान-प्रदान कर सकते हैं.

f). Storage Capacity

Computer में बहुत विशाल memory होती है.

Computer Memory में Data Save  किया जा सकता हैं.

g). Reliability

यह एक विश्वसनीय मशीन हैं.

इसका Life  लंबा होता हैं.

History of Computer in Hindi – कम्प्यूटर का इतिहास

आधुनिक Computer इतिहास की देन हैं. जिस की शुरुआत ईसा पूर्व ही हो चुकी थी.

  • Abacus दुनिया का पहला गणना यंत्र था जिस के द्वारा सामान्य गणना (जोडना, घटाना) की जा सकती थी.
  • Abacus का आविष्कार लगभग 2500 वर्ष पूर्व चीनीयों द्वारा किया गया.
  • 1642 में माथ 18 वर्ष की अल्पायु में फ्रेंच वैज्ञानिक और दार्शनिक ने पहला व्यवहरिक यांत्रिक कैलकुलेटर बनाया.
  • इस कैलकुलेटर का नाम “पास्कालिन” था. जिसके द्वारा गणना की जा सकति थी.
  • फिर 1671 में पास्कालिन में सुधार करते हुए एक एडवांस मशीन ‘Step Reckoner’ का आविष्कार हुआ. जो जोडने, घटाने के अलावा गुणा, भाग, वर्ग मूल भी कर सकती थी.
  • Gottfried Wilhelm Leibniz द्वारा विकसित इस मशीन में भंडारण क्षमता भी थी.
  • Binary System भी इन्ही के द्वारा विकसित किया गया. जिसे एक अंग्रेज ‘George Boole’ ने आधार बनाकर 1845 में एक नई गणितीय शाखा “Boolean Algebra” का आविष्कार किया.
  • आधुनिक कम्प्यूटर डाटा संसाधित करने और तार्किक कार्यों के लिए इसी बाइनरी सिस्टम और बुलीन अल्जेब्रा पर ही निर्भर रहते हैं.
  • 1804 में फ्रेंच के एक बुनकर‘Joseph-Marie-Jacquard’ ने एक हथ कर घाबना या. जिस का नाम‘Jacquard Loom’ था.
  • इसे पहला ‘सूचना-संसाधित’ डिवाइस माना जाता हैं.
  • और इस डिवाइस के आविष्कार ने साबित कर दिया कि मशीनों को मशीनि कोड द्वारा संचालित किया जा सकता था.
  • 1820 में फ्रांस के‘Thomas de Colmar’ ने“Arithmometer” नामक एक नई गणना मशीन बनाई.
  • जिसके द्वारा गणित के चार बुनियादी कार्य जोडना, घटाना, गुणा, भाग किये जा सकते थे.
  • मगर द्वितीय विश्व युद्ध के कारण इस मशीन का विकास रुक गया.
  • आधुनिक कम्प्यूटर के पितामह माननीय‘Charles Babbage’ ने 1822 में“बहुपदीय फलन” का सारणी करण करने के लिए एक स्वचालित यांत्रिक कैलकुलेटर का आविष्कार किया.
  • इस कैलकुलेटर का नाम “Difference Engine” था.
  • यह भाप द्वारा चलती थी और इसका आकार बहुत विशाल था.
  • इस मे प्रोग्राम को स्टोर करने, गणना कर ने तथा मुद्रित करने की क्षमता थी.
  • इस इंजन के लगभग एक दशक बाद 1833 में“Analytical Engine” डिजाइन किया.
  • इस इंजन को ही आधुनिक कम्प्यूटर का शुरुआती प्रारुप माना जाता हैं. इसलिए ही“चार्ल्सबैबेज” को कम्प्यूटर का जनक कहा जाता हैं.
  • इस मशीन मे वे सभी चीजे थी जो मॉडर्न कम्प्यूटर में होती है.
  • Analytical Engine में Mill (CPU), Store (Memory), Reader and Printer (Input/Output) का काम कर रहे थे.
  • अब आधुनिक कम्प्यूटर की नींव रखी जा चुकी थी.

इसके बाद कम्प्यूटर ने तेजी से विकास किया. और नई-नई तकनीकों का आविष्कार किया गया. जिसके कारण कम्प्यूटर विशाल कमरे से बाहर निकल कर हमारे हाथ में समागया.

Career Opportunities in The Computer Fields – कम्प्यूटर में करियर

computer kya hai ?

Computer Programmer

आपजिस computer  को चला रहे है उसके code जो व्यक्ति लिखता है उसे Computer Programmer कहते है. एक कम्प्यूटर programmer प्रोग्रामिंग Languages का जानकार होता है.

Hardware Engineer

कम्प्यूटर मशीन है. इसे work करने के लिए parts  की need पड़ती है. इन  devices को बनाने का काम हार्डवेयर इंजिनियर करता है.

Software Developer

इसकी तुलना computer programmer सेभी कर सकते है. इस फील्ड में सॉफ्टवेयर बनाने होते हैं. इस जॉब की सैलेरी बहुत ज्यादा लुभानी होती है .

Web Designer

एक वेब डिज़ाइनर का काम होता है कि वह वेबसाइट को डिज़ाइन करे . जो वेबसाइट आप इस समय पद रहे हो यह मेने डिज़ाइन की है . इस को वेब डिज़ाइन कहते हैं .

Data Scientist

Network Administrator

Game Developer

Computer Teacher

Computer Operator

Data Entry Operator

Computer Typist

Blogging

Vlogging

Graphic Designer

यूट्यूब चैनल बनाना सीखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

ibrahim बुरी आदत :

how to avoid bad habitshow to avoid bad habits

इब्राहिम | बुरी आदत how to avoid bad habits बुरी आदत : भगवान का अनादर इब्राहिम साधु – स्वभाव के व्यक्ति थे । उनका सारा समय ईश्वर की भक्ति में

READ MOREREAD MORE
अर्जुन - Arjun

best motivational story in hindibest motivational story in hindi

best motivational story in hindi hindi kahaniya गुरु द्रोणाचार्य कौरवों को शास्त्र विध्या सिखाया करते थे । वह समय समय पर अपने शिष्यों की परीक्षा भी लिया करते थे ।

READ MOREREAD MORE
jio ka balance kaise check kare

jio ka balance kaise check kare Jio की पूरी जानकारी हिंदी मेंjio ka balance kaise check kare Jio की पूरी जानकारी हिंदी में

Realince Jio भारत में एक बहुत बड़ा नेटवर्क है . और भारतियों की पहली पसंद भी Jio की SIM Card है . Jio के मालिक अपने भारत के ही नागरिक

READ MOREREAD MORE